32.1 C
New Delhi
Wednesday, September 28, 2022
Homeहरियाणाग्रामीणों के रोष के बाद भोगीपूर में बिजली बिल ठीक करने पहुंची...

ग्रामीणों के रोष के बाद भोगीपूर में बिजली बिल ठीक करने पहुंची एसडीओ व उनकी टीम

गांव की चौपाल में बिजली के बिल ठीक करते हुए।

गन्नौर। गांव भोगीपूर में पिछल्ले दिन से बिजली बिल ज्यादा आने के विरोध में  प्रदर्शन व एक बिजली कर्मी को बंधक बनाने के बाद ग्रामीणों की समस्या का समाधान करने एसडीओ व उनकी टीम शुक्रवार को गांव में पहुंची। टीम ने गांव के बिजली बिली ठीक किए। टीम में एसडीओ के साथ कार्यालय के खजाना अधिकारी, लिपिक व अन्य कर्मचारी मौजूद थे। ग्रामीणों ने एसडीओ से हर महीने में बिजली बिल आने की मांग की। गांव में स्ट्रीट लाईट के खर्च के पैसे भी बिल में नही जुड़ने चाहिए। मीटर रीडर के वेतन में हर बिल से पैसे हटाए जाए। जिस पर एसडीओ प्रदीप ने ग्रामीणों को कहा कि वे गांव की चौपाल या मन्दिर में लगे बिजली के कनेक्शन के बिल पंचायत खाते से अप्लाई करवा दे। उनके बिल के पैसे पंचायत ख्सर्च से कट जाएंगे। स्ट्रीट व मीटर रीडर का खर्च उनकी पावर में नही है। वह विधानसभा से पास होकर आया है। वे नही हटा सकते। उनकी मांग की अधिकारियों तक पहुंचाएंगे। बिल हर महीने गांव में उपभोक्ताओं को मिले। इसके लिए प्रयास करेंगे। ग्रामीणों से एसडीओ ने लिखित में उनकी समस्या मांगी। ग्रामीणों ने लिखित में देकर समाधान की मांग की। उसके बाद गांव के सैकड़ों उपभोक्ताओं ने बिजली के बिल को जमा भी करवाया है।

7 उपभोक्ताओं के बिजली बिल को किया गया ठीक
– बिजली विभाग द्वारा गांव के 7 उपभोक्ताओं के बिजली बिल को ठीक किया गया। एसडीओ ने बताया कि केवल 7 उपभोक्ता ही ऐसे मिले है। जिनके बिजली के बिल ठीक होने के लायक थे। उनको ठीक कर दिया है और ग्रामीणों के बिल सभी ठीक है।  

ज्यादा बिजली बिल का समाधान कर रहा है विभाग : एसडीओ
— एसडीओ प्रदीप ने ग्रामीणों को सम­ााया कि अब की बार एक तो गमी थी। दूसरा बिल भी 4 महीने का आया है। इस दौरान गर्मी में ग्रामीणों के पंखे, कूलर व एसी चले है तो   जायज ही बात है कि बिजली का बिल ज्यादा आएगा। जिन उपभोक्ताओं को ये लगता है कि उनका बिल यूनिट के हिसाब से गलत है तो विभाग उनके बिजली के बिल का समाधान कर रहा है। उपभोक्ताओं को कोई परेशानी नही आने दी जाएगी।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments