31.1 C
New Delhi
Wednesday, September 28, 2022
Homeराष्ट्रीयबांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने ख्वाजा साहब की दरगाह में अकीदत...

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने ख्वाजा साहब की दरगाह में अकीदत के फूल पेश किए

अजमेर, 08 सितम्बर। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने गुरुवार दोपहर तीन बजे यहां सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में जियारत की और अकीदत के पुष्प व मखमली चादर पेश कर मन्नत मांगी।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री के साथ उनकी कैबिनेट के 30 से ज्यादा मंत्री और रिश्तेदार भी आए थे। जियारत के दौरान खादिमों और अन्य लोगों के मोबाइल बाहर रखवाए गए। शेख हसीना ने दरगाह कमेटी के विजिटर बुक में बांग्लादेशी भाषा में अपना संदेश लिखा। इसके बाद उनके साथ आए प्रतिनिधिमंडल की भी दस्तारबंदी (साफा बांधना) की गई। करीब एक घंटे तक दरगाह में जियारत करने के बाद शेख हसीना का काफिला बजरंगगढ़ स्थित सर्किट हाउस पहुंचा। शेख हसीना व उनके प्रतिनिधिमंडल के सहयोगी यहां कुछ देर आराम करने के बाद जयपुर के लिए रवाना हो गए।

प्रधानमंत्री शेख हसीना दोपहर करीब एक बजे सड़क मार्ग से जयपुर से अजमेर पहुंची थीं, जहां वे सीधे सर्किट हाउस में विश्राम के लिए गईं और फिर जियारत के लिए दरगाह पहुंचीं। अजमेर आगमन पर जिला प्रशासन की ओर से कलेक्टर अंशदीप और पुलिस प्रशासन की ओर से आईजी रुपिंदर सिंह ने बुके भेंट कर उनका स्वागत किया। दरगाह पहुंचने पर निजामगेट पर उनका दरगाह कमेटी, अंजुमन और दरगाह दीवान की ओर से स्वागत किया गया एवं तबर्रुक भेंट किए गए।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की अजमेर यात्रा को लेकर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे। जयपुर से अजमेर मार्ग पर हजारों पुलिस कर्मी के अलावा बहुत से आला अधिकारी तैनात थे। सर्किट हाउस से दरगाह तक के मार्ग पर सभी रास्तों को आमजन के लिए बंद कर दिया गया था। दरगाह बाजार की दुकानों और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बंद कर उनपर सफेद पर्दे लगा दिए गए थे। दरगाह पहुंचने पर शादियाने बजाए गए।

खादिम सैयद कलीमुद्दीन चिश्ती ने बताया कि हर बार की तरह ही उसी अंदाज में उन्होंने दुआ की। जियारत के बाद उन्होंने परम्परानुसार शॉल ओढ़ाकर इस्तकबाल किया। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने खादिम सैयद कलीमुद्दीन चिश्ती को नजराना भी दिया। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना कई बार अजमेर में ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह आ चुकी हैं। पीएम के पद पर रहते हुए सन 1996, वर्ष 2010 और 2017 में वे अजमेर शरीफ की दरगाह पर आई थीं। 1975 से 1980 तक शेख हसीना दिल्ली में रहा करती थीं। इस दौरान भी वह अजमेर दरगाह आती रहीं। बतौर प्रधानमंत्री वे चौथी बार अजमेर दरगाह पर आई हैं। शेख हसीना चार दिन के भारत दौरे पर आई हैं। आज उनके दौरे का आखिरी दिन है।

इससे पहले नई दिल्ली में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत भाजपा-कांग्रेस के कई नेताओं से भी मुलाकात की। प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा था कि भारत आना हमेशा सुखद रहता है। शेख हसीना ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात में दोनों देशों के संबंध को नए मुकाम पर ले जाने पर जोर दिया था। छह सितंबर को शेख हसीना से कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी मुलाकात की थी।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments