17.1 C
New Delhi
Thursday, December 1, 2022
Homeविविधटेक्नोलॉजीकिसानों की फसल नहीं होगी बर्बाद, सौर ऊर्जा से संचालित कोल्ड रूम...

किसानों की फसल नहीं होगी बर्बाद, सौर ऊर्जा से संचालित कोल्ड रूम में रहेगी सुरक्षित

फिरोजाबाद, 30 जून । किसान अपनी फसल को ओने-पौने दामों में बेचने की बजाय अब उन्हें खराब होने से बचाने के लिए सौर ऊर्जा से संचालित होने वाले कोल्ड रूम में रख सकेंगे। फिरोजाबाद जिले में तीन कोल्ड रूम स्थापित किए जा चुके हैं। इनका संचालन ग्राम पंचायत द्वारा किया जाएगा।

जिले में वैसे तो प्रमुख रूप से गेहूं, बाजरा, आलू और जौ की पैदावार होती है, लेकिन अब यहां का नारखी इलाका मिर्च उत्पादन का बड़ा केंद्र बन चुका है। यहां 14-15 हजार हेक्टेयर जमीन में शिमला और अचारी मिर्च का उत्पादन होता है। यहां उत्पादित होने वाले अन्य फल या सब्जियों की बात करें तो भिंडी, मटर, टमाटर, लौकी, तोरई, पालक, खरवूज, तरबूज, आम, अमरूद भी प्रमुख रूप से पैदा होते हैं।

किसानों के सामने कभी-कभी कुछ ऐसी भी समस्या पैदा हो जाती है कि उन्हें मंडी में माल अधिक होने के कारण फसलों का उचित मूल्य नहीं मिल पाता है। ऐसे में किसान अपनी फसल को खराब होने के डर से उसे औने-पौने दामों में बेचने को मजबूर हो जाते हैं। किसानों की इस समस्या को लेकर सरकार ने जिले में श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन के तहत 3 कोल्ड रूम स्थापित किए हैं। इनमें कुछ दिनों के लिए किसान अपनी फसल को रख कर मंडी के भाव का इंतजार कर सकते हैं और फसल का सही दाम मिलने पर उसे बेच सकते हैं।

जिला ग्राम्य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक प्रदीप कुमार पांडेय ने बताया कि एक कोल्ड रूम की क्षमता छह टन की है। यह सौर ऊर्जा से चलेंगे और ग्राम पंचायत इनका संचालन करेंगी। रूधऊ मुस्तक़िल क्लस्टर के अंतर्गत गांव चुल्हावली, मोहम्मदाबाद और रूधऊ मुस्तक़िल में इन कोल्ड रूमों को स्थापित किया गया है। इन कोल्ड रूमों में सामान रखने का कितना किराया लगेगा, इसका निर्धारण ग्राम पंचायतों द्वारा ही किया जाएगा। इस संबंध में ज्यादा से ज्यादा किसानों को लाभ दिलाने के लिए जागरूक किया जा रहा है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments