30.1 C
New Delhi
Sunday, September 25, 2022
Homeखेलकोई उपलब्धि व्यक्तिगत नहीं है, बल्कि टीम के प्रयासों का परिणाम है...

कोई उपलब्धि व्यक्तिगत नहीं है, बल्कि टीम के प्रयासों का परिणाम है : सविता

बेंगलुरु, 13 सितंबर। भारतीय महिला हॉकी टीम की गोलकीपर सविता ने एफआईएच महिला गोलकीपर ऑफ द ईयर अवार्ड 2021-22 के लिए नामित होने पर आभार व्यक्त किया और कहा कि उन्हें लगता है कि वह सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं। पिछले संस्करण में इसी श्रेणी में पुरस्कार जीतने वाली सविता ने कहा कि उनके साथियों और कोचिंग स्टाफ का समर्थन मददगार साबित हुआ है।

सविता ने कहा, “लगातार वर्षों में नामांकित होने के बारे में मुझे काफी अच्छा लग रहा है। हमने पूरे साल टोक्यो 2020 ओलंपिक के बाद कड़ी मेहनत की। नामांकन प्राप्त करने से मुझे लगता है कि मैं प्रशिक्षण में सही दिशा में आगे बढ़ रही हूं।”

32 वर्षीय सविता ने कहा, “कोचिंग स्टाफ और खिलाड़ियों ने काफी सहयोग किया है। हमने हमेशा हर प्रतियोगिता में एक साथ काम किया है। हम में से किसी के लिए कोई उपलब्धि व्यक्तिगत उपलब्धि नहीं है, बल्कि टीम के प्रयासों का परिणाम है। एक गोलकीपर के रूप में, मेरा काम यह सुनिश्चित करना है टीम मेरे प्रदर्शन से खुश है और हम सभी परिणाम प्राप्त करने में एक-दूसरे की मदद करने का प्रयास करते हैं। यदि हम में से एक को नामांकित किया जाता है, तो टीम के प्रत्येक सदस्य को प्रशंसा मिलती है और यही मुझे खुश करता है।”

सविता ने एफईएच प्रो लीग 2021/22 के डेब्यू सीज़न में कप्तान के रूप में भारतीय महिला हॉकी टीम का नेतृत्व किया, जहाँ टीम तीसरे स्थान पर रही। उन्होंने बर्मिंघम 2022 राष्ट्रमंडल खेलों में कप्तान के रूप में टीम का नेतृत्व किया, जहां भारत ने न्यूजीलैंड को 1-1 (शूट आउट में 2-1) से हराकर प्रतिष्ठित कांस्य पदक जीता।

दोहरी जिम्मेदारियों पर बोलते हुए, सविता ने कहा, “गोलकीपर की स्थिति एक अलग जिम्मेदारी है। एक अनुभवी गोलकीपर के रूप में, मैं हमेशा इस मानसिकता के साथ प्रशिक्षण लेती हूं कि मुझे टीम की मदद करनी है। एक कप्तान के रूप में, आपकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है क्योंकि आपको अपने खेल का ध्यान भी रखना पड़ता है और अपनी टीम के प्रदर्शन को भी संभालें रखना होता है।”

उन्होंने कहा, “यह संभव है कि किसी दिन आपकी टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही हो, इसलिए आपको उन्हें एक कप्तान के रूप में प्रेरित करना होगा। लेकिन मुख्य कोच जेनेके शोपमैन के अंडर में काम करते हुए, हम जिम्मेदारियों को आपस में बांटने में सक्षम हैं, इसलिए मुझे लगता है कि इससे मुझे मदद मिली है और हम बिना दबाव महसूस किए खुलकर खेल रहे हैं।”

भारतीय महिला हॉकी टीम 29 अगस्त से प्रशिक्षण शिविर में है, क्योंकि वे दिसंबर में खेले जाने वाले आगामी एफआईएच हॉकी महिला राष्ट्र कप की तैयारी कर रही हैं। टीम अगले साल होने वाले आगामी एशियाई खेलों के लिए भी उत्सुक है।

सविता ने बताया कि कैसे बर्मिंघम 2022 राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने से शिविर में सकारात्मक माहौल बना है।

उन्होंने कहा, “राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने के बाद, हम सभी काफी प्रेरित महसूस कर रहे थे और हम सभी शिविर शुरू होने के लिए उत्सुक थे ताकि हम उन क्षेत्रों पर काम करना शुरू कर सकें जहां हम सुधार कर सकते हैं। सभी खिलाड़ी शिविर में वास्तव में कड़ी मेहनत कर रहे हैं, और यह शिविर में काफी सकारात्मक माहौल है।”

उन्होंने कहा, “अगले साल हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण टूर्नामेंट एशियाई खेल है हम दिसंबर में एफआईएच नेशंस कप में भी भाग लेंगे, लेकिन हमारा मुख्य लक्ष्य अगले साल एशियाई खेलों के लिए तैयार होना है।”

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments