32.1 C
New Delhi
Wednesday, September 28, 2022
Homeहरियाणापलवल : हिंदी भाषा ही नहीं, जनमानस की भावनाओं की अभिव्यक्ति भी...

पलवल : हिंदी भाषा ही नहीं, जनमानस की भावनाओं की अभिव्यक्ति भी है: मुनीष शर्मा

हमें मातृभाषा हिंदी का दिल से करना चाहिए आदर-सम्मान

हिंदी लिखने, बोलने व पढ़ने में कोई नहीं करनी चाहिए शर्म

पलवल, 14 सितंबर। उपायुक्त मुनीष शर्मा ने हिंदी दिवस के अवसर पर संदेश के माध्यम से आमजन को अपनी ओर से हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि हिंदी मात्र एक भाषा नहीं, बल्कि एक ऐसा माध्यम है जो भारत के कोने-कोने में बैठे लोगों को एक दूसरे से जोड़ने का काम करती है।

उन्होंने हिंदी भाषा का भारत में विशेष स्थान बताते हुए कहा कि वैसे तो भारत में सभी भाषाओं का समृद्ध इतिहास है और भारतीय संविधान में भाषाओं के लिए अलग से प्रावधान रखे गए हैं लेकिन हिन्दी भाषा ने भारत के जनमानस में विशेष स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने कहा है कि स्वतंत्रता प्राप्ति में हिंदी का महान योगदान है। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा के विकास से राष्ट्र और अधिक मजबूत होगा। हिंदी भाषा ही नहीं, जनमानस की भावनाओं की अभिव्यक्ति भी है।

डीसी ने कहा कि आज हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। यह दिन हिंदी भाषा के महत्व को पहचानने और युवा पीढ़ी को इसके अधिक उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है। भारत में 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है, जबकि विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है। हिंदी भाषा को स्कूल, कॉलेज, बैंक, कार्यालय आदि में मुख्य रूप से प्रयोग लाया जाता है। हमें अपनी मातृभाषा हिंदी का दिल से आदर-सम्मान करना चाहिए और इसे बोलने, लिखने व पढ़ने में कोई शर्म-संकोच नहीं करनी चाहिए। हिंदी भाषा हम सभी भारतवासियों का गर्व है। हिंदी की सरलता, सहजता और संवेदनशीलता हमेशा आकर्षित करती है। हिन्दी दिवस पर मैं उन सभी लोगों का हृदय से अभिनंदन करता हूं, जिन्होंने इसे समृद्ध और सशक्त बनाने में अपना अथक योगदान दिया है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments