15.1 C
New Delhi
Thursday, December 1, 2022
Homeअन्य राज्यउत्तर प्रदेशएसएमएस के जरिये भेजी जा रही गन्ना पर्चियां, किसान नेटवर्क को लेकर...

एसएमएस के जरिये भेजी जा रही गन्ना पर्चियां, किसान नेटवर्क को लेकर रहें सतर्क

लखनऊ, 14 नवम्बर। गन्ना किसान अपने मोबाइल नेटवर्क को लेकर सतर्क हो जाएं। यदि घर में नेटवर्क काम नहीं करता या एसएमएस मेमोरी फुल हो गया है तो दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि गन्ना पर्ची भेजने का काम शुरू हो गया है। इसे पंजीकृत मोबाइल पर ही भेजा जा रहा है।

प्रदेश के आयुक्त गन्ना एवं चीनी संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि गन्ना विकास विभाग द्वारा उच्च तकनीकी पर आधारित एस. जी. के. सिस्टम द्वारा गन्ना किसानों को एस.एम.एस. गन्ना पर्ची भेजने का कार्य सुचारू रूप से किया जा रहा है। प्रदेश के 46.42 लाख गन्ना आपूर्तिकर्ता किसानों को वर्तमान पेराई सत्र में अब तक इन्टेण्ट जारी करने वाली 82 चीनी मिलों द्वारा लगभग 60 लाख गन्ना पर्चिया कैलेण्डर के बेसमोड पर जारी की गई हैं। इनमें लगभग 2.55 लाख पर्चियां छोटे किसानों को भी कैलेण्डर के बेसमोड पर जारी की गई हैं।

उन्होंने गन्ना किसानों से यह भी अपील की है कि जिन गन्ना किसानों द्वारा तकनीकी कारणों जैसे इण्टरनेट की स्लो स्पीड, बिजी सर्वर आदि कारणों से अभी भी घोषणा-पत्र नहीं भरा गया है। वह तत्काल अपना घोषणा-पत्र भर दे अन्यथा की स्थिति में उनका सट्टा सिस्टम द्वारा स्वतः लॉक हो जायेगा।

गन्ना आयुक्त ने गन्ना कृषकों से अपील की है कि वह स्मार्ट गन्ना किसान पर पंजीकृत अपने मोबाईल नम्बर की जांच कर लें। अगर मोबाईल नम्बर गलत है अथवा नया मोबाईल नम्बर लिया गया है तो अपने गन्ना पर्यवेक्षक के जरिए अथवा समिति सचिव से सम्पर्क कर सही मोबाईल नम्बर अपडेट करा लें।

उन्होंने कहा कि पर्ची प्राप्त करने के लिये मोबाईल को चार्ज रखें तथा मैसेज इनबॉक्स खाली रखें एवं अपने मोबाईल नम्बर पर डी. एन.डी. एक्टिवेट न कराये जिससे एस.जी.के. सिस्टम द्वारा भेजी गयी पर्ची उनके मोबाईल नम्बर पर समय से प्राप्त हो जायें नेटवर्क क्षेत्र से बाहर होने की स्थिति या फिर डी. एन.डी. एक्टिवेट होने पर गन्ना पर्ची का एस.एम.एस. 24 घण्टे बाद स्वतः निरस्त हो जायेगा। जिसके कारण गन्ना किसानों को अपनी गन्ना पर्ची की जानकारी प्राप्त नहीं हो पायेगी।

इंडेण्ट कटने के साथ ही गन्ना किसानों को गन्ना पर्ची का एस.एम.एस. तत्काल उनके पंजीकृत मोबाईल नम्बर पर एस.जी. के. सिस्टम द्वारा प्रेषित कर दिया जाता है। अधिकतर किसानों को तत्काल एस.एम.एस. पर्चियां उनके मोबाईल पर सुगमतापूर्वक प्राप्त हो जाती हैं, परन्तु कतिपय किसानों के 24 घण्टे की अवधि बीत जाने पर भी मोबाईल नेटवर्क के क्षेत्र में न आने, एस.एम.एस. इनबॉक्स भरे होने, डी. एन.डी. सर्विस एक्टिवेट होने अथवा मोबाईल नम्बर त्रुटिपूर्ण होने या बदल दिये जाने के कारण गन्ना पर्ची का एस.एम.एस. उनके मोबाईल नम्बर पर डिलीवर नहीं हो पा रहा है। जिस कारण किसानों को अपने गन्ने की आपूर्ति करने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments