23.1 C
New Delhi
Friday, October 7, 2022
Homeराष्ट्रीयशंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती 99 वर्ष की उम्र में हुए ब्रह्मलीन

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती 99 वर्ष की उम्र में हुए ब्रह्मलीन

-नरसिंहपुर के झोतेश्वर स्थित परमहंसी गंगा आश्रम में ली अंतिम सांस

– सोमवार शाम पांच बजे आश्रम में ही समाधि दी जाएगीः ब्रह्मविद्यानंद

भोपाल, 11 सितंबर। ज्योतिष और द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य जगद्गुरु स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का रविवार को निधन हो गया। उन्होंने 99 वर्ष की आयु में अपराह्न करीब 3.30 बजे नरसिंहपुर के झोतेश्वर स्थित परमहंसी गंगा आश्रम में अंतिम सांस ली। वे लम्बे समय से अस्वस्थ चल रहे थे। बताया गया है कि हृदयगति रुकने से उनका निधन हुआ। उनके निधन से श्रद्धालुओं और संत समाज में शोक की लहर फैल गई। उनके शिष्य ब्रह्मविद्यानंद ने बताया कि सोमवार शाम 5 बजे उन्हें आश्रम में ही समाधि दी जाएगी।

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महज 19 साल की उम्र में क्रांतिकारी साधु के रूप में उभरे थे। वे सनातन धर्म की रक्षा के लिए आजीवन संघर्षरत रहे। स्वामी जी आजादी की लड़ाई में जेल भी गए थे। उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए लंबी कानूनी लड़ाई भी लड़ी थी। हाल ही में हरियाली तीज के दिन उनका 99वां जन्मदिन मनाया गया था। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती दो मठों (द्वारका एवं ज्योतिर्मठ) के शंकराचार्य थे।

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जन्म 02 सितंबर 1924 को मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के ग्राम दिघोरी में हुआ था। उनके पिता धनपति उपाध्याय और मां का नाम गिरिजा देवी था। माता-पिता ने इनका नाम पोथीराम उपाध्याय रखा। नौ साल की उम्र में उन्होंने घर छोड़ कर धर्म यात्राएं शुरू कीं। इस दौरान वह काशी पहुंचे और यहां उन्होंने ब्रह्मलीन स्वामी करपात्री महाराज से वेद और शास्त्रों की शिक्षा ली। उस दौरान भारत को अंग्रेजों से मुक्त करवाने की लड़ाई चल रही थी।

1981 में शंकराचार्य की उपाधि मिली, जेल भी गए

वर्ष 1942 के अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन में भी उन्होंने भाग लिया। महज 19 साल की उम्र में वह ‘क्रांतिकारी साधु’ के रूप में प्रसिद्ध हुए। इसी दौरान उन्होंने वाराणसी की जेल में 9 और मध्यप्रदेश की जेल में 6 महीने की सजा काटी। वे करपात्री महाराज के राजनीतिक दल रामराज्य परिषद के अध्यक्ष भी थे। वर्ष 1950 में वह दंडी संन्यासी बनाये गए और 1981 में शंकराचार्य की उपाधि मिली। 1950 में शारदा पीठ शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती से दण्ड-संन्यास की दीक्षा ली और स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती नाम से जाने जाने लगे।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सहित अनेक नेता उनके अनुयायी थे। स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती अपनी बेबाक बयानी के लिए भी जाने जाते थे। उनके निधन की खबर से संत समाज में भी शोक छा गया। श्रद्धालुओं-जनप्रतिनिधियों ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा समेत अनेक नेताओं ने उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है। वीडी शर्मा ने ट्वीट किया है कि ज्योतिर्मठ एवं शारदा पीठ के शंकराचार्य पूज्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी के देवलोक गमन का दुःखद समाचार मिला। उनका अवसान धर्म जगत के लिए बड़ी क्षति है। ईश्वर दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्रीचरणों में विश्रांति प्रदान करें। पूज्य शंकराचार्य जी के श्रीचरणों में कोटि-कोटि नमन्।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments